Responsive Ad Slot

Latest

latest
lockdown news

महासमुंद की खबरें

महासमुंद की खबर

रायगढ़ की ख़बरें

raigarh news

दुर्ग की ख़बरें

durg news

जम्मू कश्मीर की ख़बरें

jammu and kashmir news

VIDEO

Videos
top news

कोरोना के बीच अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगा प्रतिबंध 31 अगस्त तक बढ़ा, DGCA ने लिया फैसला

No comments

कोरोना के चलते DGCA ने इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर लगे प्रतिबंध को अब 31 अगस्त 2021 तक के लिए बढ़ा दिया है। शुक्रवार को जारी एक सर्कुलर में कहा गया है कि यह प्रतिबंध अंतरराष्ट्रीय सभी कार्गो संचालन और खासतौर से DGCA द्वारा अप्रूव्ड फ्लाइट्स पर लागू नहीं होगा। DGCA ने कहा कि यह प्रतिबंध 31 अगस्त को रात 11 बजकर 59 मिनट तक लागू रहेगा। भारत से आने और जाने वाली इंटरनेशनल कॉमर्शियल फ्लाइट पर लगे प्रतिबंध की अवधि 31 जुलाई को समाप्त हो रही थी। 

बता दें कि इससे पहले DGCA ने कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर लगाई गई रोक को 31 जुलाई तक बढ़ाया था। DGCA की ओर से जारी नए सर्कुलर में कहा गया है कि अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध बढ़ाने के फैसले का असर कार्गो विमानों पर नहीं पड़ेगा। इसके साथ ही इस प्रतिबंध से उन उड़ानों को भी छूट होगी जिन्हें खासतौर पर DGCA ने मंजूरी दी है। 

कोरोना  के चलते भारत में 23 मार्च 2020 से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को निलंबित कर दिया गया था, हालांकि मई 2020 से वंदे भारत अभियान और जुलाई 2020 से चयनित देशों के बीच द्विपक्षीय ‘एयर बबल’ व्यवस्था के तहत विशेष अंतरराष्ट्रीय विमान उड़ान भर रहे हैं। भारत का अमेरिका, ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात, केन्या, भूटान और फ्रांस समेत कई देशों के साथ ‘एयर बबल’ करार है। इसके तहत 2 देशों के बीच एयर बबल समझौते से विमानों का परिचालन एयरलाइन कंपनियां कर सकती है। भारत में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर अंतरराष्ट्रीय यात्री विमानों पर निलंबन बढ़ाने का फैसला किया गया है।

44 हजार 230 नए कोरोना मामले 


देश में शुक्रवार को कोरोना संक्रमण के 44 हजार 230 नए मामले सामने आए, जिसके बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3 करोड़ 15 लाख 72 हजार 344 हो गई। वहीं 555 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 4 लाख 23 हजार 217 हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में लगातार तीसरे दिन एक्टिव मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। देश में अभी 4 लाख 05 हजार 155 लोगों का कोरोना का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 1.28 प्रतिशत है। बीते 24 घंटे में एक्टिव मरीजों की संख्या में 1 हजार 315 बढ़ोतरी दर्ज की गई। मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 97.38 प्रतिशत है।

CRIME: आरक्षक ने युवक की पीट-पीटकर की हत्या, 2 आरोपियों को किया गया गिरफ्तार

No comments

देश में क्राइम का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। रोजाना देश के अलग-अलग राज्यों से चोरी, डकैती, लूटपाट, मारपीट, हत्या जैसे कई मामले सामने आ रहे हैं। ताजा मामला राष्ट्रीय राजधानी की है, जहां एक आरक्षक ने युवक की पीट-पीटकर कर हत्या कर दी है। जानकारी के मुताबिक दिल्ली के न्यू अशोक नगर इलाके में दिल्ली पुलिस के सिपाही ने अजीत नाम की बेरहमी से पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई। इसके बाद आरोपी सिपाही ने सबूत मिटाने के उद्देश्य से उसके शव को अपनी गाड़ी में डालकर मुरादनगर स्थित गंग नहर ले गया और फिर शव को नहर में फेंक दिया। 


इस पूरे मामले में जहां एक ओर खाकी ने वारदात को अंजाम दिया तो वहीं दूसरी ओर खाकी ने अपने ही महकमे के सिपाही को बचाने के लिए पूरी कोशिश भी की, लेकिन इसी बीच उस पूरी वारदात से जुड़ा एक वीडियो सामने आया, जिसके बाद दिल्ली पुलिस के लिए यह मजबूरी बन गया कि इस मामले की जांच की जाए और फिर जांच में इस पूरी वारदात का खुलासा हुआ।




फिलहाल दिल्ली पुलिस ने आरोपी सिपाही मोनू सिरोही को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि अजीत का शव अभी भी नहीं मिल पाया है। पुलिस उसके शव को गंग नहर में तलाश करवाने की बात कर रही है। साथ ही उन थानों से भी जानकारी जुटा रही है, जिनके इलाके में गंग नहर का हिस्सा आता है। संभव है कि अजीत का शव किसी थाना पुलिस को लावारिस हालात में मिला हो। दरअसल, न्यू कोंडली इलाके में अजीत अपने परिजन के साथ रहता था। परिजन का कहना है कि अजीत 4 जून की रात 8:00 बजे घर से बाहर निकला था और फिर लौटकर नहीं आया। 2 दिन बाद उन्हें इस बात की जानकारी हुई कि अजीत के साथ मारपीट की गई है। उसे किडनैप करके कहीं ले जाया गया है। जिसके बाद से परिजन पुलिस के पास मामला दर्ज कराने के लिए जाते रहे, लेकिन समय रहते कोई सुनवाई नहीं हुई।

जानिए क्या है पूरा मामला


अजीत अपने परिजन के साथ न्यू कोंडली के बी ब्लॉक में रहता था। अजीत के बड़े भाई अशोक का कहना है कि 4 जून की रात लगभग 8 बजे अजीत घर से बाहर निकला था। अजीत के साथ उसका दोस्त अतुल भी था। रात भर अजीत घर नहीं आया। उसका कुछ पता नहीं चला। इसके 2 दिन बाद दीपक नाम के एक युवक ने हमें बताया कि 4 तारीख की रात को अजीत और अतुल के साथ कार में सवार 4 लोगों ने मारपीट की थी और वे युवक अजीत को अपनी गाड़ी में डालकर कहीं ले गए हैं। 

'पुलिस ने नहीं लिखी रिपोर्ट'


अशोक का कहना है कि यह बात जैसे ही मालूम हुई तो उन्होंने 7 जून को सबसे पहली बार न्यू अशोक नगर थाने में जाकर अपने भाई के अपहरण की शिकायत लिखवानी चाही, लेकिन वहां पर जो IO थे, उन्होंने बात को टाल दिया था। हमारी कोई शिकायत नहीं ली गई। इसके बाद हमने SHO को भी शिकायत दी थी, लेकिन उन्होंने भी हमारी कोई सुनवाई नहीं की। उस समय कोरोना काल चल रहा था तो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से हमें मिलने नहीं दिया जा रहा था।

'मेरे भाई की हत्या की साजिश'


उन्होंने कहा कि हम लोगों ने ईमेल के माध्यम से या स्पीड पोस्ट के माध्यम से शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों को भेजी, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई। फिर जब उस पूरी घटना का वीडियो हमें मिला और हमने पुलिस को इससे अवगत करवाया तब जाकर पुलिस हरकत में आई और अब 2 लोगों को गिरफ्तार किया, लेकिन हमारे भाई का शव अभी तक नहीं मिल पाया है। मृतक की बहन नीतू का कहना है कि मेरे भाई की हत्या की साजिश में दो और युवक शामिल हैं। जो दोनों सगे भाई हैं। जिनका नाम शिवा और ऋषि है। ये दोनों पड़ोस में रहते हैं। 22 मई को हमारी इनसे कहासुनी हुई थी। हमारे घर के सामने पार्क है। 

मृतक की बहन ने लगाया आरोप


उसमें हम लोग कपड़े सुखाते हैं। इसी बात पर वे लोग हमसे झगड़े थे। उन्होंने मेरे साथ बदतमीजी भी की थी। हमने इस बारे में पुलिस थाने में शिकायत भी की थी। तभी से वे लोग हमें धमकी दे रहे थे कि अपनी शिकायत वापस ले लो नहीं तो अंजाम बुरा होगा। तुम्हारे भाइयों को हम फंसा देंगे। उसके कुछ दिन बाद ही अजीत को किडनैप करवा लिया गया और उसकी हत्या करवा दी गई। पुलिस भी हमारी बात सुनने को तैयार नहीं थी। पुलिस भी हम पर ही दबाव बना रही थी कि ऋषि और शिवा के साथ जो मामला चल रहा है उसे वापस ले लो। 


वहीं 4 जून की रात न्यू अशोक नगर थाना क्षेत्र के कोंडली इलाके में दिल्ली पुलिस के सिपाही मोनू सिरोही द्वारा अजीत नाम के युवक की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। उसके शव को कार में डालकर मुरादनगर ले जाया गया, जहां से शव को गंग नहर में फेंक दिया गया, जिस जगह पर इस वारदात को अंजाम दिया गया, वह न्यू कोंडली बी-1 ब्लॉक मेन रोड है। जब वारदात को अंजाम दिया जा रहा था तो नजदीक में रहने वाले शख्स गौरव ने अपने मोबाइल के कैमरे से इस पूरी वारदात को रिकॉर्ड भी किया था।

मृतक के दोस्त ने दी जानकारी


गौरव का कहना है कि ये वारदात 4 जून की देर रात की है। समय लगभग रात के 11 बजे का था। गौरव खाना खाने के बाद अपने कमरे की खिड़की पर आकर बाहर देख रहा था। तभी उसकी नजर नीचे ही खड़ी एक सफेद रंग की कार पर पड़ी, जिसमें से 4 लोग बाहर निकले और उन्होंने दो युवकों के साथ मारपीट करना शुरू कर दिया। ये देखकर गौरव वापस अपने कमरे में गए और फिर अपना मोबाइल लेकर आए। उन्होंने अपने मोबाइल से इस पूरे वीडियो को रिकॉर्ड किया। 

'कार में डालकर ले गए पुलिस वाले' 


गौरव का कहना है कि उनकी दूर की नजर कमजोर है, इसलिए वे यह नहीं पहचान पाए थे कि किसके साथ कौन मारपीट कर रहा है। उन्होंने अपने मोबाइल से रिकॉर्डिंग करना शुरू कर दिया। उन्होंने देखा कि जिन दो युवकों को पीटा जा रहा था, उनमें से एक किसी तरीके से वहां से भाग निकला। जबकि दूसरे को पुलिस युवकों ने बुरी तरीके से पीटा। इतनी बुरी तरीके से पीटा कि वह सड़क पर गिर गया और फिर भी लोग उसे कार में डालकर अपने साथ ले गए।

मामूली विवाद में वारदात


पुलिस का कहना है कि अब तक की जांच में ये बात सामने आई है कि मोनू सिरोही अपने तीन दोस्तों के साथ गाड़ी में मौजूद था। वह कहीं जा रहा था. उसकी गाड़ी से अजीत और अतुल की मामूली से टक्कर हो गई और उसी मामूली विवाद ने झगड़े का रूप ले लिया। जब मोनू और उसके साथियों ने अजीत और अतुल के साथ मारपीट की तो अतुल किसी तरीके से भाग गया, लेकिन अजीत को इस कदर पीटा कि उसकी मौत हो गई और फिर मोनू ने अजीत के शव को मुरादनगर ले जाकर गंग नहर में फेंक दिया। मोनू के साथ हरीश को गिरफ्तार कर लिया गया है। दो और युवकों की तलाश की जा रही है।

चिटफंड कंपनी में आपके भी फंसे हैं रुपये, तो वापसी के लिए ऐसे कर सकते हैं आवेदन

No comments

रायपुर।  चिटफंड कम्पनियों में निवेशकों के फंसे रुपये की वापसी के लिए सरकारी पहल शुरू हो गई है। छत्तीसगढ़ के निवेशकों के करोड़ों रुपए फंसे हैं।  रुपये वापसी के लिए छत्तीसगढ़ अभिकर्ता उपभोक्ता सेवा संघ भी निरंतर प्रयासरत है। संघ के प्रदेश अध्यक्ष गगन कुंभकार के संयोजन में 2015 से लगातार ज्ञापन सौंपकर धरना-आंदोलन किया है।



वादा निभा रहे हैं प्रदेश के मुखिया

 संघ के प्रदेश महासचिव नंदकुमार निषाद ने बताया कि भाजपा शासन काल में धरना आंदोलन हुआ। तब तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष (वर्तमान मुख्यमंत्री) भूपेश बघेल ने धरना स्थल पर उपस्थित होकर मांगों का पुरजोर समर्थन भी किया था। भूपेश बघेल की सरकार ने अभिकर्ताओ पर हुए एफआईआर वापस लिया। और चिटफंड कम्पनियों में फंसे निवेशकों की धन वापसी के लिए 02 अगस्त से 06 अगस्त 2021 तक जिला कार्यालय में निवेशकों से आवेदन जमा कराया जा रहा है। गृह विभाग और सामान्य प्रशासन  विभाग द्वारा इस संबंध में आदेश जारी किया गया है।

महासमुन्द कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

छ. ग. अभिकर्ता उपभोक्ता सेवा संघ महासमुन्द ने  बैठक कर  कलेक्टर महासमुन्द को चिटफंड कंपनी में फंसे निवेशकों को धन वापसी के लिए आवेदन जमा कराने व्यवस्था करने ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया गया है कि 28 जुलाई को गृह विभाग व पुलिस मुख्यालय नया रायपुर से छ ग के सभी जिला कलेक्टर को पत्र भेजा गया है। जिसमें 02अगस्त से 06 अगस्त 2021 तक सभी चिटफंड कम्पनी के निवेशक  धन वापसी के लिए अपने जिला कार्यलय में आवेदन जमा करेंगे। जिसके लिए आवेदन का प्रारूप भी जारी किया गया है। 

समुचित प्रचार-प्रसार भी नहीं किया

आवेदन जमा करने के लिए केवल पांच दिन का समय दिया गया है। इसका समुचित प्रचार-प्रसार भी नहीं किया गया है। इसलिए छ ग अभिकर्ता उपभोक्ता सेवा संघ के पदाधिकारी चिंतित हैं। उन्होंने कलेक्टर से आदेश की जानकारी ली।  जिससे सभी निवेशक अपने धन वापसी के लिए आवेदन जमा कर सकें। महासमुन्द जिला अध्यक्ष गणेश राम साहू, ब्लाक अध्यक्ष राम लाल साहू के नेतृत्व में संघ के पदाधिकारी ज्ञापन सौंपने पहुंचे थे।

धन वापसी के लिए एसडीएम बनाए गए नोडल अधिकारी

महासमुन्द कलेक्टर डोमन सिंह के निर्देश पर चिटफंड कम्पनियों में निवेश करने वाले जनसामान्य, निवेशकों के धन की वापसी की प्रक्रिया प्रारंभ की जा रही है। इसके लिए अनुविभागीय अधिकारी (एसडीएम) को नोडल अधिकारी अधिकृत किया गया है। इनमें अनुविभागीय अधिकारी राजस्व (एसडीएम) सरायपाली सुश्री नम्रता जैन (आई.ए.एस.), महासमुन्द के एसडीएम  भागवत जायसवाल, बागबाहरा से  एसडीएम राकेश कुमार गोलछा और पिथौरा एसडीएम बी.एस. मरकाम शामिल हैं। 




जारी आदेश में सभी को समय-सीमा में कार्य संपादन करने कहा गया है। संबंधित एसडीएम छत्तीसगढ़ शासन गृह विभाग द्वारा जारी निर्धारित प्रपत्र में चिटफंड कम्पनियों में निवेश करने वाले जनसामान्य, निवेशकों के धन की वापसी हेतु आवेदन पत्र लेंगे।जिले के ऐसे जनसामान्य एवं निवेशक जिन्होंने चिटफंड कम्पनियों में धन निवेश किया है। वे संबंधित क्षेत्र के अनुविभागीय अधिकारी के पास निर्धारित प्रपत्र में पूरा ब्यौरा भरकर आवेदन प्रस्तुत कर सकते है।

CBSE 12वीं में लड़कियों ने मारी बाजी, 99.37 प्रतिशत रहा परिणाम, ऐसे चेक करें रिजल्ट

No comments

CBSE 12वीं के नतीजे जारी कर दिए गए है, जिसमें इस बार कुल 12 लाख 96 हजार 318 छात्रों ने 99.37% पासिंग प्रतिशत के साथ कक्षा 12 की परीक्षा पास की है। सिर्फ केंद्रीय विद्यालय के ही 100 प्रतिशत छात्र पास हो पाए हैं। कुल छात्र जिन्होंने परीक्षा दी उनकी संख्या 1 करोड़ 30 लाख 4561 थी, जिनमें से 1 करोड़ 29 लाख 6318 छात्र परीक्षा में पास हुए हैं। यह 99.37 प्रतिशत छात्रों का कुल प्रतिशत बनता है। CBSE 12वीं की परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन कराने वाले करीब 14 लाख छात्र हैं, जिनमे से 1304561 छात्रों ने परीक्षा दी और 1296318 पास हुए हैं। हालांकि इस साल  टॉपर्स की मेरिट लिस्ट का ऐलान नहीं किया गया है।





बता दें कि निजी उम्मीदवारों की संख्या करीब 60 हजार से ज्यादा है, जिनके नतीजे 5 अगस्त तक घोषित किए जा सकते हैं। फेल हुए छात्रों की संख्या 8243 रही। जवाहर नवोदय विद्यालय के नतीजे - 99.94 प्रतिशत ( पिछले साल - 99.70) रहा , जो कि पिछले साल से बेहतर है. CTSA यानी सेंट्रल तिब्बतन स्कूल एडमिनिस्ट्रेशन के नतीजे भी 100 में से 100 आए हैं। इस बार 12वीं में ऐसे 1 लाख 50 हजार 152 स्टूडेंट्स हैं, जिनके मार्क्स 90 से 95 प्रतिशत के बीच रहे. जबकि 70 हजार 4 छात्र 95 फीसदी से ज्यादा मार्क्स से पास हुए हैं। ट्रांसजेंडर स्टूडेंट्स 100 फीसदी पास हुए हैं। इस साल पिछले साल की तुलना में पास प्रतिशत में काफी सुधार हुआ है। 2020 में 88.78 प्रतिशत छात्रों ने कक्षा 12 की परीक्षा पास की थी।



इस साल 12वीं की परीक्षा में ऐसे 6 हजार 149 छात्र हैं जिन्हें कंपार्टमेंट लगा है। CBSE की तरफ से यह कहा गया है कि करीब 65 हजार छात्रों के 12वीं कक्षा के परिणाम अब भी तैयार किए जा रहे हैं, इनकी घोषणा 5 अगस्त तक की जाएगी। मार्कशीट डिजीलॉकर पर भी हासिल किए जा सकेंगे। मार्कशीट के अलावा माइग्रेशन, स्किल सार्टिफिकेट भी डिजीलॉकर से मिल जाएंगे। 


ऐसे चेक करें रिजल्ट



स्टूडेंट्स अपना रिजल्ट आधिकारिक वेबसाइट cbseresults.nic.incbse.gov.in पर जाकर चेक कर सकते हैं। इनके अलावा स्टूडेंट्स अपना सीबीएसई 12वीं का परिणाम कई दूसरे डिजिटल प्लेटफॉर्म जैसे digilocker.gov.in , UMANG App और SMS के जरिए भी चेक कर सकते हैं। CBSE कक्षा 12 के परिणाम से असंतुष्ठ छात्र ऑप्शनल परीक्षा दे सकते हैं। शिक्षा बोर्ड ने 15 अगस्त से 15 सितंबर के बीच ऑप्शनल एग्जाम की तारीखें भी निर्धारित की हैं। CBSE कक्षा 12 के परिणाम आज घोषित हो चुके हैं जल्द ही ऑप्शनल परीक्षाओं के रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन विंडो खोल दी जाएगी।

शासकीय और निजी स्कूलों में कक्षा 10वीं और 12वीं की कक्षाएं 2 अगस्त से संचालित होंगी

No comments

राज्य शासन के आदेशानुसार स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत सभी शासकीय और निजी स्कूलों में 10वीं और 12वीं की कक्षाएं सोमवार 2 अगस्त से संचालित होना प्रारंभ हो जाएगा। इसी प्रकार कक्षा 6वीं, 7वीं, 9वीं और 11वीं को छोड़कर शेष सभी कक्षाएं अर्थात् कक्षा पहली से लेकर 5वीं और 8वीं की कक्षाएं भी 2 अगस्त से संचालित होंगी। यह सभी कक्षाएं उन जिलों में प्रारंभ की जा रही है, जहां कोरोना पॉजिटिविटी दर पिछले 7 दिनों में एक प्रतिशत तक हो। 



 राज्य शासन के निर्णय अनुसार सभी प्रायमरी स्कूलों में कक्षा पहली से लेकर 5वीं तक तथा मीडिल स्कूल में कक्षा 8वीं के संचालन के पूर्व ग्रामीण क्षेत्रों के लिए संबंधित ग्राम पंचायत और स्कूल की पालन समिति की अनुशंसा आवश्यक होगी। शहरी क्षेत्रों के लिए संबंधित वार्ड पार्षद और स्कूल की पालन समितियों की अनुशंसा जरूरी है। हाई स्कूल और हायर सेकेण्डरी स्कूलों में 10वीं और 12वीं की कक्षाएं संचालित करने के लिए ग्राम पंचायत या नगरीय निकाय के प्रतिनिधियों सहित पालन समिति की अनुशंसा की आवश्यकता नहीं होगी। 


पॉजिटिविटी दर में लगातार संभावित गिरावट


स्कूल शिक्षा विभाग के सचिव और आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय डॉ. कमलप्रीत सिंह ने बताया कि राज्य शासन के निर्णय अनुसार वर्तमान में 6वीं, 7वीं, 9वीं और 11वीं की ऑफलाईन कक्षाएं प्रारंभ नहीं की जा रही हैं। भविष्य में इन कक्षाओं को संचालित करने का निर्णय राज्य शासन द्वारा जिलों में कोरोना पॉजिटिविटी दर में निरंतर संभावित गिरावट और उसके प्रसार के सम्यक आंकलन पश्चात् यथा समय लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि राज्य में इन ऑफलाईन (प्रत्यक्ष रूप से संचालित) कक्षाओं के अलावा सभी स्तर की ऑनलाईन कक्षाएं पूर्व की भांति संचालित होती रहेंगी।

सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, 29 युवक और 15 युवतियां गिरफ्तार

No comments

हरियाणा के फरीदाबाद में एक बड़े सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है। दरअसल, फरीदाबाद स्थित नीलम बाटा रोड के द अर्बन होटल एंड रेस्टोरेंट में छापेमारी कर पुलिस ने 44 लोगों को आपत्तिजनक हालत में गिरफ्तार किया है। होटल में बड़ी संख्या में शराब की बोतलें और शराब से भरे हुए ग्लास भी मिले हैं। गिरफ्तार किए गए 44 आरोपियों में 29 युवक और 15 युवतियां हैं।


मुखबिर से सूचना मिलने के बाद पुलिस ने तुरंत टीम बनाकर रेड मारने के लिए प्लानिंग बनाई। योजना के मुताबिक पुलिस ने एक सिपाही को फर्जी ग्राहक बनाकर होटल में भेजा और सूचना के कंफर्म होने पर छापा मार दिया। इसके बाद पुलिस ने 15 लड़कियों के साथ 44 लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस के मुताबिक यहां कमेटी लॉटरी की पार्टी चल रही थी, जिसमें NCR से इन युवतियों को बुलाया गया था। इनमें दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद की रहने वाली कई युवतियां शामिल है।

29 जुलाई को भी 8 आरोपियों को किया गया था गिरफ्तार


बता दें कि 29 जुलाई को भी मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा में पुलिस ने एक सेक्स रैकेट  (Sex Racket Busted) का भंडाफोड़ किया था। जानकारी के मुताबिक पुलिस ने देर रात सुकलुढाना क्षेत्र के एक किराए के मकान पर दबिश दी। जहां से 8 लोगों को आपत्तिजनक हालत में गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों में 5 युवक और 3 युवतियों शामिल है। पुलिस ने जिन जगहों पर कार्रवाई की है, वहां से आपत्तिजनक सामान भी बरामद हुआ है। फिलहाल पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है। 

8 आरोपियों की गिरफ्तारी

छिंदवाड़ा पुलिस ने बुधवार तड़के 4 बजे सुकलुढाना क्षेत्र में  छापेमारी करते हुए देह व्यापार में लिप्त 3 युवती और 5 युवकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक जिस स्थान पर छापामार कार्रवाई की गई वहां लंबे समय से देह व्यापार का रैकेट चल रहा था जिसमें अभी सिर्फ पुलिस को 8 लोग ही हाथ लगे हैं। जबकि अन्य लोगों के नाम भी सामने आ रहे है, जिनकी जल्द ही गिरफ्तारी की जाएगी। देह व्यापार के तार जिले के विभिन्न क्षेत्रों में फैले हुए हैं। इसके लिए पूरा नेटवर्क सक्रिय है। 

धान के मुख्य कीटो का ऐसे करें नियंत्रण, नहीं होगा फसलों को नुकसान

No comments

कृषि विज्ञान केंद्र नारायणपुर धान की फसल नारायणपुर जिले के 90 प्रतिशत किसानों की आजीविका की एकमात्र सहारा है। अभी नारायणपुर क्षेत्र के अधिकतर भाग में धान की रोपनी लगभग हो चुकी है और जो किसान भाई आग्रिम बुवाई-रोपाई किए हैं उनके खेतो में शत्रु कीटो का प्रकोप देखा जा रहा है। जिनके प्रबंधन के लिए कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों द्वारा लगातार किसानों का प्रक्षेत्र भ्रमण कर प्रबंधन के लिए सलाह प्रदान किया जा रहा है।  


इसी कड़ी में कृषि विज्ञान केंद्र नारायणपुर से सुरज गोलदार (कार्यक्रम सहायक पौध रोग विज्ञान) और ग्रामीण कृषि विस्तार आधिकारी प्रभात बिस्वास द्वारा ग्राम बखरुपारा के किसान सुरेन्द्र सिंह के खेत का अवलोकन किया और देखा गया कि उनके खेत में तना छेदक और पत्ती मोडक कीटो का प्रकोप हुआ है। इसके निराकरण के उपाय बताए गए हैं। किसान धान के विभिन्न कीटों का नियंत्रण सुझाए गए तरीके अपनाकर कर सकते हैं। जिन कीटों से धान की फसल की हानि होती है उनमें तना छेदक, कीट प्रमुख है। 


पीले रंग की इल्लियां


कभी कभी धान के नर्सरी स्टेज में भी देखा जा सकता है, लेकिन इसका प्रकोप रोपाई के 15-20 दिन के बाद से धान की बाली निकलते समय तक अधिक दिखाई देता है। यह कीट तने के अंदर घुसकर तना के मुख्य भाग को खाता है जिससे धान के पौधे के मध्य की पत्तिया और तना सूख जाती है और उस तने को खींचने से आसानी से बाहर निकल जाती है। तना के निचले भाग को देखने से वहा एक छोटा सा पिन के आकार का छेद दिखाई देता है और उस भाग को चीरकर देखने से यह कीट देखा जा सकता है। तना छेदक की इल्लियां हल्के पीले रंग के होते है।ॉ


पत्तियों से रस चूसकर पौधे को करती है कमजोर


इसके अलावा पत्ती मोडक कीट पत्ती को गोलाकार में मोड़कर पत्ती के हरा भाग को खुरचकर खाती है, जिससे पत्तियों पर सफेद धरियां बन जाती है। इसके रोकथाम के लिए कारटाप हाइड्रोक्लोराइड 4 प्रतिशत जी. 5 कि.ग्रा. प्रति एकड़ छिड़काव और फिप्रोनिल 5 प्रतिशत एस.सी. 400 मि.ली. प्रति एकड़ के हिसाब से स्प्रे करना चाहिए। माहू - ये फसल में गभोट और बाली अवस्था में ज्यादा नुकसान पहुंचाते है। सफेद, हरा और भूरा महू का फसल में प्रकोप होता है। ये तने और पत्तियों से रस चूसकर पौधे को कमजोर करते हैं। इसके ज्यादा प्रकोप से फसल झुलसी हुई दिखाई देता है और पूरी तरह से नष्ट हो जाती है।


इतनी मात्रा में करें स्प्रे 


वहीं गंधी बग मच्छर के आकृति के, मच्छर से बडे आकार के हरापन लिए भूरा रंग के होते है, ये कीट पत्तियों से और मुख्यतरू बलियो से रस चूसते हैं। इससे दाने पोंचे रह जाते हैं। कटुआ- कटुआ (आर्मी वार्म) किट के इल्ली हल्के हरे से भूरे रंग के और शरीर के ऊपर सफेद हल्के पीले रंग के धरियां पाई जाती है। ये कीट नर्सरी अवस्था में पत्तियों को और बाली अवस्था में बलियों को काटकर खेत में गिरा देते हैं। माहू, गंधी बग और कटुआ कीट के रोकथाम के लिए फिप्रोनिल 4 प्रतिशत, थायोमिथेक्साम 4 प्रतिशत एस.सी. 30-40 मि.ली. प्रति 15 लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करना चाहिए। वहीं थायोमिथेक्साम 5 प्रतिशत W.जी. 5 ग्राम प्रति 15 लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करना चाहिए या लैम्डा साईहेलोथिन 5 प्रतिशत ई.सी. 7.5-10 मि.ली. प्रति 15 लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करना चाहिए और थायोमिथेक्साम 12.6 प्रतिशत, लैम्डा साईहेलोथिन 9.5 प्रतिशत जेड.सी. 6-8 मि.ली. प्रति 15 लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करना चाहिए।

© Media24Media | All Rights Reserved | Infowt Information Web Technologies.