Responsive Ad Slot

Latest

latest
lockdown news

महासमुंद की खबरें

महासमुंद की खबर

रायगढ़ की ख़बरें

raigarh news

दुर्ग की ख़बरें

durg news

जम्मू कश्मीर की ख़बरें

jammu and kashmir news

VIDEO

Videos
top news


 

वर्धा की तर्ज पर नवा रायपुर में स्थापित होगा 21वीं सदी का सेवा-ग्राम

No comments

आजादी के 75वें साल में आजादी की लड़ाई के मूल्यों, सिद्धांतों, आदर्शों और महात्मा गांधी की ग्राम-स्वराज की संकल्पना को अक्षुण्ण रखने के लिए नवा-रायपुर में भी वर्धा की तर्ज पर सेवा-ग्राम की स्थापना की जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सचिन राव के साथ नया रायपुर में बनने वाले सेवा ग्राम के लिए चिन्हांकित स्थल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने बताया कि सेवा ग्राम के लिए नवा-रायपुर 76.5 एकड़ की जमीन चिन्हांकित की गई है। 


ये स्थान नया रायपुर के लेयर वन से लगा हुआ है। इस स्थल में लगभग पांच एकड़ क्षेत्र में दो नहर भी है। बाकी 75 एकड़ भूमि में सेवा ग्राम बसाया जाएगा। सेवा ग्राम को इस ढंग से विकसित किया जाएगा कि वहां छत्तीसगढ़ की परंपरागत ग्रामीण भवन शैली की झलक दिखें। निर्माण कार्यों में स्थानीय स्तर पर उपलब्ध निर्माण सामग्री का उपयोग होगा। आश्रम के अंदर की सड़के भी ग्रामीण परिवेश के अनुरूप होंगी। सेवा ग्राम तक पूरा क्षेत्र हरियाली से भरपूर रहेगा।


आश्रम का पूरा वातावरण आत्मिक शांति प्रदान करेगा। इस मौके पर कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, वन मंत्री  मोहम्मद अकबर, विधायक देवेन्द्र यादव, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, विशेष सचिव कृषि  एस. भारतीदासन, एनआरडीए के मुख्यकार्यपालन अधिकारी फकीर भाई अय्याज तम्बोली, संचालक उद्योग अनिल टुटेजा, रायपुर कलेक्टर सौरभ कुमार भी उनके साथ थे।

आत्मनिर्भर-ग्राम की कल्पना

सेवा ग्राम में ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने और आत्मनिर्भर-ग्राम की कल्पना को साकार करने के लिए सभी प्रकार के कारीगरों के प्रशिक्षण की व्यवस्था का प्रावधान भी किया जाएगा। बता दें कि सेवा ग्राम की स्थापना के लिए 02 अक्टूबर 2021 से पहले इस संबंध में कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। गौरतलब है कि इस परियोजना के पीछे महाराष्ट्र के वर्धा में स्थित सेवाग्राम है, जिसकी स्थापना साल 1936 में महात्मा गांधी और उनकी सहधर्मिणी कस्तूरबा के निवास के रूप की गई थी, ताकि वहां से वे मध्य भारत में स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व कर सकें। 

ग्रामीण भारत के पुननिर्माण का केंद्र 

वर्धा का यह संस्थान महात्मा गांधी के सपनों के अनुरूप ग्रामीण भारत के पुननिर्माण का केंद्र भी था। गांधीजी का मानना था कि भारत की स्थितियों में स्थायी रूप से सुधार के लिए ग्राम-सुधार ही एकमात्र विकल्प है। अब 21वीं सदी में महात्मा गांधी के उन्हीं सपनों के अनुरूप ग्राम-सुधार के कार्य को आगे बढ़ाने के लिए नवा-रायपुर में सेवा-ग्राम की स्थापना की जा रही है। इस सेवा-ग्राम का निर्माण मिट्टी, चूना, पत्थर जैसी प्राकृतिक वस्तुओं का उपयोग करते हुए किया जाएगा। 

स्थानीय लोगों का सशक्तिकरण 

ये परियोजना गांधी-दर्शन को याद रखने और सीखने की प्रेरणा देगी। साथ ही स्वतंत्रता आंदोलन की यादों और राष्ट्रीय इतिहास को भी इसके माध्यम से जीवंत रखा जा सकेगा। रायपुर में प्रस्तावित सेवाग्राम में गांधीवादी सिद्धांतों, ग्रामीण कला और शिल्प के केंद्र विकसित किए जाएंगे, जहां अतिथि विषय-विशेषज्ञों द्वारा मार्गदर्शन दिया जाएगा। साथ ही वहां वृद्धाश्रम तथा वंचितों के लिए स्कूल भी स्थापित किए जाएंगे। इसका उद्देश्य पर्यटन के अवसरों को बढ़ा देकर, छत्तीसगढ़ की लोक कलाओं को प्रोत्साहन देकर, बुजुर्गों को दूसरा-घर देकर और वैचारिक आदान-प्रदान के लिए छत्तीसगढ़ में एक विश्वस्तरीय व्यवस्था का निर्माण करके स्थानीय लोगों का सशक्तिकरण करना है। 

आयोजित किए जाएंगे सांस्कृतिक कार्यक्रम 

सेवा-ग्राम में प्रस्तावित विजिटर्स सेंटर सीखने, निर्वाह करने और गांधी के सिद्धांतों का स्मरण करने का केंद्र जगह होगा। छत्तीसगढ़ अपनी विशिष्ट कला और शिल्प के लिए जाना जाता है। छत्तीसगढ़ के बस्तर, रायगढ़ और अन्य जिलों में बेल मेटल, लौह, टेराकोटा, पत्थर, कपड़े और बांस का उपयोग करके विभिन्न कलात्मक वस्तुओं का निर्माण किया जाता है। सेवाग्राम एक ऐसा स्थान होगा जहां आगंतुक स्थानीय कला और शिल्प, स्थानीय व्यंजनों को बारे में जान सकेंगे। अपनी जानकारियों और अनुभवों को साझा कर सकेंगे। सेवा ग्राम में एक ओपन थियेटर भी होगा, जहां सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

अच्छी सैलरी और बोनस के बाद भी अगस्त में 43 लाख लोगों ने छोड़ी नौकरी, जानिए क्या है वजह

No comments

संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में लोग रिकॉर्ड संख्या में नौकरी छोड़ रहे हैं। अमेरिकी श्रम विभाग के जॉब ओपनिंग और लेबर टर्नओवर सर्वे के मुताबिक अगस्त में नौकरी छोड़ने वाले अमेरिकियों की संख्या बढ़कर 43 लाख हो गई। ये अमेरिका में काम करने वाले सभी कर्मचारियों का 2.9 प्रतिशत है, जिससे पता चलता है कि रिकॉर्ड स्तर पर लोगों ने इस्तीफा दिया है। इससे पहले अप्रैल में 40 लाख और मई में 36 लाख लोगों ने नौकरी छोड़ी थी। 

इस बीच अगस्त में अमेरिका में नई नौकरियों की संख्या थोड़ी गिरकर 10.4 लाख हो गई, लेकिन ऐसा जुलाई से ही देखने को मिल रहा है। अमेरिका में बड़े स्तर पर लोगों के नौकरी छोड़ने से पता चलता है कि ये नौकरी की संभावनाओं को लेकर कितना आश्वस्त महसूस करते हैं। आंकड़ों की गहराई से जांच करने पर ये भी पता चला कि लोग कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट को लेकर भी डरे हुए हैं।

सबसे ज्यादा ये सेक्टर हुए प्रभावित 

इससे सबसे ज्यादा रिटेल, हॉस्पिटैलिटी, ट्रांसपोर्टेशन, पेशेवर और बिजनेस सर्विस से जुड़े सेक्टर प्रभावित हुए हैं। आवास और खाद्य सेवा से जुड़े वो काम जहां ग्राहकों से आमना-सामना होता है, इस क्षेत्र में 892,000 लोगों में अगस्त में कोविड के बढ़ते मामलों के बीच नौकरी छोड़ी है। इससे पिछले महीने ये संख्या 157,000 थी। नौकरी छोड़ने वाले लोगों और खाली पदों की बढ़ती संख्या देश के आर्थिक सुधार में रोड़ा बनती दिख रही है। नौकरी छोड़ने की ये दर बीते दो दशक में सबसे ज्यादा बताई जा रही है।

अच्छा बोनस के बाद भी नौकरी छोड़ रहे लोग

कोरोना वायरस की पहली लहर में 2.2 करोड़ लोगों की नौकरी चली गई थी। क्योंकि लॉकडाउन के कारण कई काम धंधे ठप हो गए। बावजूद इसके अब करीब 50 लाख नौकरियां खाली पड़ी हैं और इन पर लोगों की भर्ती नहीं हो पा रही। छोटा व्यवस्याय करने वाले करीब 51 फीसदी लोगों का कहना है कि इन्होंने सितंबर में अपने यहां नौकरी निकाली थीं, लेकिन इन पदों को भरा नहीं जा सका। लोगों को आकर्षित करने के लिए कंपनियां अच्छा बोनस और ज्यादा वेतन दे रही हैं। करीब 42 फीसदी छोटे व्यवसायियों का कहना है कि इन्होंने भी बीते महीने सैलरी में इजाफा किया है।

नौकरी छोड़ने की वजह 

नौकरी छोड़ने के पीछे कई वजहें हैं। कोरोना से संक्रमित होने का डर, बच्चों की देखभाल के विकल्पों की कमी और अमेरिकी सरकार द्वारा प्रोत्साहन राशि के तौर पर दी जा रही मदद। राष्ट्रपति जो बाइडेन की सरकार महामारी से उभरने के लिए लोगों को सहायता दे रही है, जिसके कारण वह अपनी तनावपूर्ण नौकरी छोड़ पा रहे हैं। 1.16 करोड़ से ज्यादा लोग और उनके परिवार सरकार के सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रम पर निर्भर हैं। इन्हें बोरजगारी का लाभ मिलता है। सरकार ने लाखों लोगों को कोविड रिलीफ चेक, किराया अधिस्थन और छात्र ऋण माफी भी दी है। इसके कारण उन्हें घर का खर्च चलाने में दिक्कत नहीं आ रही। इसीलिए लोग नौकरी छोड़ रहे हैं।

देवों की नगरी उत्तराखंड में कुदरत ने फिर बरपाया कहर, भारी बारिश और भूस्खलन से अब तक 47 लोगों की मौत

No comments

देवों की नगरी उत्तराखंड में एक बार फिर से कुदरत ने कहर बरपाया है। प्रदेश के कुमाऊं और गढ़वाल क्षेत्र में मूसलाधार बारिश से मंगलवार को 42 और लोगों की मौत हो गई है। जबकि कई मकान ढह गए हैं। इसके साथ ही भारी बारिश से जुड़ी घटनाओं में अब तक मरने वालों की संख्या 47 हो गई है। प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि खराब मौसम के बीच कई घंटे के संघर्ष के बाद मंगलवार देर शाम नैनीताल से संपर्क बहाल कर दिया गया है। 

कुमाऊं क्षेत्र में 42 लोगों की मौत के साथ ही आपदा के कारण मरने वालों की संख्या 47 हो गई है। क्योंकि पांच लोगों की मौत सोमवार को हुई थी। मौसम विभाग के मुताबिक बुधवार को भी प्रदेश के कई इलाकों में बारिश के आसार बने हुए हैं। DIG निलेश आनंद भरणे ने बताया कि कुमाऊं क्षेत्र में मरने वालों की संख्या 40 से ज्यादा हो गई है। अधिकारी ने बताया कि इन 42 मौतों में से 28 लोग नैनीताल जिले में मारे गए हैं। जबकि छह-छह लोगों की मौत अल्मोड़ा और चंपावत जिलों में, एक-एक व्यक्ति की मौत पिथौरागढ़ और उधम सिंह नगर जिले में हुई है।

PM मोदी ने लिया जायजा

PM नरेंद्र मोदी ने भी फोन पर धामी से बात की और स्थिति का जायजा लिया। साथ ही हरसंभव सहायता का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ कुमाऊं क्षेत्र में बारिश प्रभावित इलाकों का दौरा करने गए पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि नैनीताल के काठगोदाम और लालकुआं और ऊधम सिंह नगर के रुद्रपुर में सड़कों, पुलों और रेल पटरियों को नुकसान पहुंचा हैं। कुमार ने कहा कि क्षतिग्रस्त पटरियों को ठीक करने में कम से कम चार-पांच दिन लगेंगे।

DIG ने दी जानकारी

DIG भरणे ने कहा कि खराब मौसम और लगातार बारिश के बावजूद नैनीताल में बंद सड़कों को खोल दिया गया है, मलबे हटा दिए गए हैं और पर्यटक स्थल का संपर्क बहाल कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि फंसे हुए पर्यटक कालाधुंगी ओर हलद्वानी के रास्ते अपने स्थानों के लिए रवाना हो रहे हैं। धामी ने कहा कि भारतीय वायु सेना के तीन हेलीकॉप्टर राज्य में पहुंच गए हैं और राहत और बचाव कार्यों में मदद कर रहे हैं। दो हेलीकॉप्टर नैनीताल जिले में तैनात किए गए हैं। जबकि तीसरा हेलीकॉप्टर गढ़वाल क्षेत्र में बचाव अभियान में शामिल है।

मौसम में सुधार होने की बात

मुख्यमंत्री ने राज्य के आपदा प्रबंधन मंत्री धन सिंह रावत और पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार के साथ बारिश से हुए नुकसान का आकलन करने के लिए प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। धामी ने कहा कि व्यापक क्षति हुई है। उन्होंने कहा कि फंसे हुए लोगों को सुरक्षित निकालने पर ध्यान दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने लोगों से नहीं घबराने की अपील करते हुए कहा कि लोगों की जान बचाने के लिए हरसंभव कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मौसम विभाग ने मंगलवार शाम से मौसम में सुधार होने की बात कही है।

CM धामी ने लोगों से की ये अपील

CM धामी ने चारधाम यात्रियों से फिर अपील की है कि वे जहां हैं, वहीं रुक जाएं और मौसम में सुधार होने से पहले अपनी यात्रा शुरू नहीं करें। उन्होंने चमोली और रुद्रप्रयाग जिलों के जिलाधिकारियों से चारधाम यात्रा मार्ग पर फंसे हुए तीर्थयात्रियों की खासतौर से देखभाल करने का निर्देश दिया। इस बीच SEOC ने कहा कि राज्य की ज्यादातर नदियां उफान पर हैं और हरिद्वार में गंगा का जलस्तर 293.90 मीटर तक पहुंच गया है, जो खतरे के निशान 294 मीटर से मामूली नीचे है।

घटना को लेकर PM ने जताया दुख 

SEOC ने बताया कि नैनीताल में 90 मिलीमीटर, हल्द्ववानी में 128 मिमी, कोश्याकुटोली में 86.6 मिमी, अल्मोड़ा में 216.6 मिमी, द्वाराहाट में 184 मिमी और जागेश्वर में 176 मिमी बारिश हुई। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी बारिश से प्रभावित इलाकों का जायजा लिया और हरसंभव मदद का भरोसा दिया। CM धामी ने कहा कि प्रदेश में बड़ी आपदा आई है, जिसमें जनहानि के साथ ही पशु हानि भी हुई है।आपदा में जान गंवाने वालों के परिजनों को 4 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी। वहीं PM मोदी ने आपदा से जान गंवाने वाले लोगों को लेकर दुख जताया है।

आज फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए अपने शहर का रेट

No comments

देश में पेट्रोल-डीजल के दाम कम होने का नाम नहीं ले रहा है। देश की राजधानी दिल्ली समेत सभी महानगरों में एक बार फिर पेट्रोल-डीजल  (petrol diesel Rate hike) की कीमतों में इजाफा हुआ है। सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल की कीमतों में (Petrol price) 35 पैसे और डीजल की कीमतों (Diesel price) में भी 35 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की है। इस बढ़ोतरी के बाद मुंबई में पेट्रोल का भाव 112 रुपए 11 पैसे हो गया है। जबकि एक लीटर डीजल की कीमत 102 रुपए 89 पैसे हो गई है। मुंबई में डीजल के दामों में 37 पैसे की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वहीं पेट्रोल के दामों में भी 0.34 पैसे की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। चेन्नई में पेट्रोल की कीमत बढ़कर 103 रुपए 01 पैसे प्रति लीटर हो गया है।  

इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के मुताबिक आज की बढ़ोतरी के बाद देश की राजधानी दिल्ली में 1 लीटर पेट्रोल का भाव 106 रुपए 19 पैसे और डीजल की कीमत 94 रुपए 92 पैसे हो गई है। कोलकाता में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 106 रुपए 43 पैसे है।  पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 35 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी का ये लगातार 5वां दिन है। इससे पहले 12 और 13 अक्टूबर को दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ था। 

बीजापुर में बढ़े दाम

वहीं छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर समेत कई जिलों और शहरों में पेट्रोल-डीजल की कीमत स्थिर है, लेकिन बीजापुर में बुधवार को 36 पेट्रोल की कीमत में 36 पैसे की बढ़ोतरी हुई है। यहां पेट्रोल की कीमत अब 108.47 रुपये प्रति लीटर हो गई है। जबकि डीजल के दाम में भी बीजापुर में 37 पैसे की वृद्धि हुई है। अब बीजापुर में डीजल की कीमत 99.35 रुपये प्रति लीटर हो गई है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पेट्रोल के दाम 103.61 रुपये प्रति लीटर है जबकि डीजल यहां 102.18 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। लगातार महंगे हो रहे पेट्रोल और डीजल का असर आम आदमी की जेब पर भी पड़ रहा है। परिवहन के साथ साथ डीजल महंगा होने से सब्जी और रोजमर्रा के इस्तेमाल के अन्य सामान भी महंगे हो रहे हैं।

सब्जी और फलों के दाम भी इजाफा

बता दें कि पिछले एक हफ्ते में पेट्रोल और डीजल के दामों में 2 रुपये से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है। अभी कच्चा तेल 84 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर पर बिक रहा है। पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के कारण खाने-पीने की चीजों के दामों में भी बढ़ोतरी देखी जा रही है। सब्जी और फलों के दाम भी इजाफा दर्ज किया जा रहा है।

हर सुबह कीमत अपडेट 

देश में जून 2017 के बाद से प्रतिदिन पेट्रोल और डीजल की कीमतें अपडेट की जाती है। ये कीमत विदेशी मुद्रा दरों और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमतों के आधार पर तय की जाती है। ऑयल मार्केटिंग कंपनियां डेली कीमतों की समीक्षा करती हैं। इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम तेल कंपनियां हर सुबह कीमतों को अपडेट करती हैं।

ज्यादातर शहरों में पेट्रोल के दाम 100 के पार

देश के ज्यादातर शहरों में पेट्रोल की कीमत पहले से ही 100 रुपए प्रति लीटर से ऊपर है। जबकि डीजल की दरें मध्यप्रदेश, राजस्थान, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और बिहार समेत 12 से ज्यादा राज्यों में 100 रुपए प्रति लीटर के स्तर को पार कर गई हैं। स्थानीय करों और मालभाड़े के आधार पर विभिन्न राज्यों के बीच कीमतें अलग-अलग होती हैं। गौरतलब है कि पिछले साल वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल के दामों में भारी गिरावट के बाद सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर शुल्कों और उपकर में भारी बढ़ोतरी की थी। इससे सरकार के राजस्व संग्रह में काफी वृद्धि हुई है। इस समय देश में पेट्रोल 100 रुपये के पार हो चुका है। वहीं कई राज्यों में डीजल भी शतक लगा चुका है।

इस कारण बढ़ रहे  पेट्रोल और डीजल के दाम

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें लगातार बढ़ रही है। इसी का असर भारतीय बाजारों पर है। भारत ही नहीं दुनियाभर के बाजारों में पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ रहे हैं। अमेरिका में पेट्रोल 7 साल में सबसे महंगा है। साल 2014 के बाद अमेरिका में एक गैलन पेट्रोल के दाम बढ़कर 5 डॉलर के करीब पहुंच गए है। एक रिपोर्ट के मुताबिक कच्चे तेल की कीमतों से फिलहाल राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। क्योंकि भारत और चीन जैसे बड़े देशों से डिमांड बरकरार है। वहीं सप्लाई उतनी बढ़ नहीं रही है। ओपेक देशों ने धीरे-धीरे कच्चे तेल का उत्पादन बढ़ाने की बात कहीं है।

हर दिन जारी होते हैं रेट्स

देश की तीनों ऑयल मार्केटिंग कंपनी HPCL, BPCL और IOC आप सुबह 6 बजे के बाद पेट्रोल डीजल के नए रेट जारी करती है। लेटेस्ट रेट्स के लिए आप एसएमएस के अलावा IOCL की ऑफिशियल वेबसाइट भी चेक कर सकते हैं। गौरतलब है कि पेट्रोल-डीजल के दाम में (petrol diesel Rate hike) लगातार वृद्धि पर केंद्र सरकार की आलोचना हो रही है, जिसको लेकर पेट्रोलियम मंत्री ने कहा था कि तेल की कीमतों में इजाफे में सरकार का कोई रोल नहीं है और यह अंतरराष्ट्रीय कीमतों पर निर्भर करता है। उन्होंने तेल उत्पादक देशों को कृत्रिम रूप से कीमतों में बढ़ोतरी का दोषी ठहराया। उन्होंने कहा कि मुझे यह कहते हुए खेद हैं कि तेल उत्पादक देश उपभोक्ता देशों के हितों के बारे में नहीं सोच रहे हैं, इससे उपभोक्ता देशों को परेशानी हो रही है।

इस तरह चेंक करें अपने शहर के दाम

दुनियाभर में कच्चे तेल की मांग तेजी से बढ़ रही है, जिसका सीधा असर पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर देखने को मिल रहा है। आप घर बैठे अपने मोबाइल से सिर्फ एक SMS भेजकर अपने शहर के पेट्रोल-डीजल का भाव चेक कर सकते हैं। इसके लिए आपको सिर्फ अपने मोबाइल नंबर से 92249 92249 नंबर पर SMS भेजना है, जिसके बाद में उस दिन के लेटेस्ट रेट्स आपके पास मैसेज के रूप में आ जाएगा। इस मैसेज को करने के लिए आपको RSP<स्पेस> पेट्रोल पंप डीलर का कोड लिखकर 92249 92249 पर भेजना पड़ेगा। अगर आप दिल्ली में हैं और मैसेज के जरिए पेट्रोल डीजल का भाव जानना चाहते हैं तो आपको RSP 102072 लिखकर 92249 92249 पर भेजना होगा। हर शहर का कोड अलग-अलग है, जो आपको IOCL की वेबसाइट से मिल जाएगा। यहां चेक करें दाम https://iocl.com/Products/PetrolDieselPrices.aspx

24 घंटे में गैंगरेप की 5 घटनाओं से दहला झारखंड, दरिंदगी की सारी हदें पार

No comments

देश में रेप की घटना लगातार बढ़ती (incidence of rape cases in India) ही जा रही है। रोजाना देश के अलग-अलग राज्यों से दुष्कर्म की खबरें सामने आ रही है। लेकिन आज हम उस राज्य के बारे में बात कर रहे हैं, जहां 24 घंटे के अंदर ही गैंगरेप की 5 वारदात (gang Rape in Madhya Pradesh) को अंजाम दिया गया है। इन घटनाओं ने झारखंड में महिलाओं की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े कर दिए हैं। 

बीते 24 घंटे के अंदर झारखंड में गैंगरेप की पांच घटनाएं हुई हैं। ये घटनाएं झारखंड के अलग-अलग जिलों में हुई है। जानकारी के मुताबिक गुमला में दो नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म के मामले के सभी आरोपी अभी गिरफ्तार भी नहीं हुए थे कि राजधानी में भी एक नाबालिग छात्रा के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दे दिया गया। हालांकि पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए दो आरोपियों को धर दबोचा है।

इन जिलों में हुई गैंगरेप की वारदात

पहला मामला गुमला में, दूसरा मामला सिमडेगा में तीसरा मामला गढ़वा में, चौथा मामला गोड्डा और पांचवां मामला रांची में सामने आया है। एक दिन में पांच दुष्कर्म की घटनाओं से पुलिस महकमे पर सवाल किया जा रहा है। गोड्डा के मेहरमा प्रखंड कार्यालय में तैनात दो होमगार्ड्स पर एक मूक बधिर महिला ने गैंगरेप का आरोप लगाया है। महिला वारदात के वक्त प्रखंड कार्यालय के पास बकरी चराने गई थी। वह इशारों में हैवानियत की दास्तान बता रही है। मेहरमा थाने में इसकी रिपोर्ट लिखाई गई है। आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया है।

नाबालिग के साथ दुष्कर्म

रांची के नरकोपी थाना क्षेत्र के मुड़हरा पहाड़ पर नाबालिग छात्रा के साथ भी दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया गया है। जानकारी के मुताबिक छात्रा आपने घर से जतरा मेला देखने के लिए निकली थी। इसी दौरान बाइक सवार दो लोग उसे लिफ्ट देने के बहाने एक पहाड़ पर ले गए, जहां पर नाबालिग के साथ दुष्कर्म किया गया। इस वारदात को अंजाम देने के बाद नाबालिग लड़की को छोड़कर मौके से सभी आरोपी फरार हो गए। पुलिस के मुताबिक दुष्कर्म का शिकार होने के बाद नाबालिग लड़की बहदवास हो गई थी। किसी तरह वो पहाड़ से नीचे उतरी। इसके बाद  सड़क पर गिरकर बेहोश हो गई।

मेला देखने के बहाने बाइक में दिया था लिफ्ट

नाबालिग के कपड़े भी फटे हुए थे। स्थिति देखकर ग्रामीणों ने इसकी सूचना नरकोपी पुलिस को दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने आनन-फानन में नाबालिग को रांची के सदर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उसे बेहतर इलाज के लिए रिम्स रेफर कर दिया गया है। पुलिस के मुताबिक नाबालिग की स्थिति गंभीर बनी हुई है। नाबालिग लड़की रविवार को जतरा मेला घूमने जा रही थी। इसी दौरान मुड़हरा पहाड़ से थोड़ा पहले वह बस से उतर गई। इसके बाद पैदल गांव में लगे जतरा मेला घूमने के लिए जाने लगी। उसी रास्ते से दोनों आरोपी भी बाइक से जतरा मेला देखने जा रहे थे।

आरोपियों ने पीड़िता से की थी मारपीट

मुड़हरा पहाड़ के समीप जब नाबालिग पहुंची तो बाइक सवार उसे देखकर रूक गए। नाबालिग से पहले जान पहचान की। मोबाइल नंबर का आदान-प्रदान किया। इसके बाद उसे बाइक पर जतरा मेला ले जाने के लिए लिफ्ट दिया। जैसे ही नाबालिग बाइक में बैठी, आरोपी उसे पहाड़ की तरफ ले गए। जब नाबालिग ने इसका विरोध किया तो आरोपियों ने उसे जान से मारने की धमकी दी। पहाड़ के उपर नाबालिग को ले गए। इसके बाद दोनों बारी-बारी से उसके साथ दुष्कर्म किया। इस दौरान आरोपियों ने उसके साथ मारपीट भी की।

BJP ने हेमंत सरकार पर उठाए सवाल

वहीं झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हेमंत सोरेन सरकार पर निशाना साधा है। रघुवर दास ने ट्वीट कर कहा कि 'शर्मनाक ! अपराधियों में शासन का भय नहीं है। झारखंड में हर दिन बेटियों की अस्मत लूटी जा रही है और हेमंत सरकार हाथ पर हाथ धरकर बैठी है।' रघुवर दास ने कहा कि आदिवासियों के नाम पर वोट बटोरकर सत्ता में आई हेमंत सोरेन सरकार में सबसे ज्यादा प्रताड़ित आदिवासी और दलित बच्चियां ही हैं। बता दें कि प्रदेश में रोजाना दुष्कर्म की घटनाएं सामने आ रही है, ऐसे में  कानून व्‍यवस्‍था को लेकर सवाल उठना लाजमी है।

सौतेले पिता ने बेटी के साथ किया दुष्कर्म, फिर गोली मारकर कर दी हत्या

No comments

देश में रेप और हत्या की वारदात लगातार बढ़ती (incidence of rape cases in India) ही जा रही है। रोजाना देश के अलग-अलग राज्यों से दुष्कर्म और हत्या की खबरें सामने आ रही है। लेकिन आज हम उस राज्य के बारे में बात कर रहे हैं, जहां दुष्कर्म के बाद हत्या की दर्दनाक वारदात (Rape in Madhya Pradesh) को अंजाम दिया गया है। बिहार के अरवल जिले के सदर थाना क्षेत्र के जलपुरा गांव में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल, यहां एक पिता ने पहले अपनी सौतेली बेटी के साथ रेप किया और फिर बाद में उसकी गोली मारकर हत्या कर दी। वहीं वारदात को अंजाम देकर भाग रहे आरोपी पिता को ग्रामीणों ने पकड़ लिया और इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची चौरम पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही उसके पास से देसी पिस्तौल भी बरामद कर लिया। 


जानकारी के मुतबिक आरोपी झाड़-फूंक का काम करता है। इस दौरान उसने बैदराबाद निवासी एक महिला से शारीरिक संबंध बना लिया और उसे अपने घर ले आया। उस महिला की बेटी पर आरोपी की बुरी नजर पड़ गई और उसने अपनी सौतेली बेटी का ही रेप करना शुरू कर दिया। बाद में विवाद बढ़ता देख उसने सौतेली बेटी के साथ कोर्ट में शादी को भी रजिस्टर करा लिया। हालांकि सौतेली बेटी आरोपी से तंग आ चुकी थी और वह उससे अलग अरवल बाजार में किराए के एक मकान में रहने लगी।

पुलिस ने दी जानकारी

पुलिस के मुताबिक आरोपी ने पीड़िता को झांसा देकर अपने घर जलपुरा बुलाया और उस पर किसी व्यक्ति से अवैध संबंध रखने का आरोप भी लगाया। इसी दौरान उसने पिस्तौल निकालकर उसे गोली मार दी। जलपुरा थाना प्रभारी शंभु पासवान ने बताया कि आरोपी पर हत्या और दुष्कर्म की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि मृतिका के परिजन के बयान पर हत्या का मामला दर्ज किया गया है। आरोपी के पास से पिस्तौल भी बरामद हुआ है।

गैंगरेप की घटना

इधर, सोमवार को ही औरंगाबाद में 20 साल की BA फाइनल की छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है। छात्रा शनिवार शाम  को पास में ही रहने वाली सहेली के घर जा रही थी, तभी एक बदमाश ने उसे अगवा कर लिया। इसके बाद कार से उसे सुनसान जगह पर ले गया, जहां उसने और उसके दो साथियों ने गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया। इसके बाद आरोपी छात्रा को झाड़ी में फेंककर फरार हो गए। पेट्रोलिंग पर निकली मुफस्सिल पुलिस ने लड़की के कराहने की आवाज सुनी और उसे सदर अस्पताल लेकर गई।

पीड़िता ने पुलिस को सुनाई आपबीती

पीड़ित छात्रा ने बताया कि उसे राहुल कुमार ने जबरदस्ती पकड़कर कार में बैठाया। इसके बाद किसी अनजान जगह पर ले गया। इसके बाद चेहरे पर स्प्रे मारकर बेहोश कर दिया था। आंख खुली तो देखा कि मेरे सामने राहुल, उसका दोस्त अविनाश कुमार राम और पंकज राम थे। तीनों ने गैंगरेप किया और मारपीट भी की। फिलहाल पुलिस ने तीनों के खिलाफ केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी।

2 नाबालिग बहनों के साथ गैंगरेप, एक आरोपी ने गिरफ्तारी के डर से की खुदकुशी

No comments

देश में रेप और गैंगरेप की घटना लगातार बढ़ती (incidence of gang rape cases in india) ही जा रही है। रोजाना देश के अलग-अलग राज्यों से रेप और गैंगरेप की खबरें सामने आ रही है। ताजा मामला झारखंड के गुमला जिले का है, जहां दो नाबालिग बहनों के साथ गैंगरेप (Gang Rape) हुआ है। मामला बिशुनपुर के गुरदरी थाना क्षेत्र का है। जानकारी के मुताबिक शुक्रवार की शाम दोनों बहन अपने चचेरे भाई के साथ दशहरा मेला देखकर लौट रही थी। इसी दौरान प्रेम नाम के एक युवक ने उनका रास्ता रोका और छेड़खानी करने की कोशिश की। इसका विरोध करने पर उसने अन्य युवकों के साथ मिलकर चचेरे भाई को मार-पीटकर भगा दिया और फिर सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया। इसके बाद एक आरोपी ने गिरफ्तारी के डर से आत्महत्या कर ली। 

गुमला सदर SDOP मनीष चंद्रा ने बताया कि पुलिस को ये जानकारी शनिवार को मिली, जिसके बाद तत्काल कार्रवाई करते हुए दोनों बच्चियों को गुमला सदर अस्पताल में मेडिकल टेस्ट कराया गया। रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। बता दें कि जिस जगह पर घटना हुई है, वह नक्सल प्रभावित इलाका है। इसकी सीमा लातेहार से लगी हुई है। उन्होंने बताया कि सोमवार को कोर्ट में बच्चियों का बयान दर्ज करवाया गया। उन्होंने बताया कि गुरदरी थाने में बच्चियों के बयान पर प्राथमिकी दर्ज की गई है।

आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस

SDOP ने बताया कि इस घटना को अंजाम देने वाले सभी आरोपी ट्राइबल समुदाय से हैं और इसमें ज्यादातर युवक चापाकोना गांव के बताए जा रहे हैं। वहीं घटना के बाद से ग्रामीण काफी आक्रोशित हैं और आरोपियों को जंगलों में खोज रहे हैं। इसके साथ ही पुलिस भी छापेमारी अभियान चला रही है। स्थानीय पुलिस की छापेमारी तेज हुई, तो एक आरोपी अजीत उरांव ने गिरफ्तारी के डर से अपने ही घर में खुदकुशी कर ली। मृतक गुरदरी थाना क्षेत्र के नीचे लोदा गांव के रहने वाला था।

एक आरोपी ने की खुदकुशी

SDOP ने बताया कि घटना में एक ही थाना क्षेत्र के दो-तीन गांव के युवक संलिप्त है। इस घटना की जानकारी मिलने के बाद नीचे लोदा गांव के लोगों ने मीटिंग किया था, जिसमें अजीत उरांव का नाम सामने आया। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की मीटिंग में अजीत उरांव अपने पिता के साथ शामिल हुआ था। ग्रामीणों ने अजीत को फटकार भी लगाई। इसके बाद अजीत ने आत्महत्या कर ली। SDOP ने कहा कि मृतक के पिता ने थाने में लिखित आवेदन दिया है, जिसमें कहा गया है कि पछतावा होने पर उसके बेटे ने खुदकुशी कर ली है।

© Media24Media | All Rights Reserved | Infowt Information Web Technologies.